शरीर में वात प्रकृति को संतुलित करने के उपाय और नियम : Vata

वात प्रकृति

वात प्रकृति का व्यक्ति अधिक लोगों के साथ नहीं रहना चाहता और शोरगुल पसंद नहीं करता। आधुनिक युग में तनाव और दबाव वात के असंतुलन को और बढ़ा सकते हैं। आरंभिक चरणों में शरीर असंतुलित अवस्था को स्वीकार करके उसे संतुलित करने का प्रयास करता है। वात को संतुलित करने के लिए यह आवश्यक है … Read more

नाभि/धरण हटने के मुख्य कारण एंव उससे होने वाले रोग ?

नाभि

नामि विज्ञान परीक्षण मानव को स्वास्थ्य प्रदान करने में मुख्य योगदान प्रदान करता है। आयुर्वेदाचार्यों के मतानुसार नाभि-चक्र यदि अपने केंद्र स्थान से हट जाए (सरक जाए या पलट जाए) तो कई प्रकार के रोगों को पैदा कर सकता है। नाभि-चक्र के अपने स्थान से खिसक जाने पर उदर में अवस्थित मणिपूरक चक्र के सभी … Read more

तनाव का अर्थ एंव जीवन में तनाव के मुख्य कारण

तनाव

आधुनिक जीवन के सामाजिक परिवेश में विभिन्न कारणों से व्यक्ति तनाव अनुभव करता है। भागदौड़ से अस्त-व्यस्त जीवन दिन-प्रतिदिन की माँगों से सामंजस्य बैठाने के प्रयास में ऊब और थकान अनुभव करने लगता है। ऐसा लगता है जीवन आनंदपूर्ण और सहज नहीं रह गया है। परिवार, पड़ोस और कार्यक्षेत्र से सम्बंधित कठिनाइयों का निवारण उचित … Read more

Bipolar disorder:बाइपोलर डिसऑर्डर और मानसिक डिप्रेशन को कण्ट्रोल करने का तरीका

मानसिक अवसाद

डिप्रेशन से पीड़ित रोगी या व्यक्ति के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है उसका शुरुआती लक्षणों का पता चलते ही इलाज़ शुरू करना। दवाओं के अलावा, कुछ प्राकृतिक उपचार भी हैं जिन्हें आसानी से रोगी के इलाज के लिए अनुकूलित किया जा सकता है। डॉक्टरों द्वारा उपचार लक्षणों की गंभीरता, व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और व्यक्ति की इच्छा … Read more

इन शुरूआती लक्षणों से पता करे डिप्रेशन की समस्या का – Depression

डिप्रेशन

आजकल डिप्रेशन होना एक आम बात है छोटी-छोटी सी परेशानियो से हार कर व्यक्ति नकारात्मक सोचने लगता है। इससे आपके खाने,सोने,और रहन-सहन पर भी प्रभाव पड़ता है। इससे व्यक्ति अपने भीतर अपराध की निरंतर भावना का अनुभव करने लगता है। आइये जानते है डिप्रेशन क्या है और इसके लक्षण। डिप्रेशन क्या है?  – Depression डिप्रेशन … Read more

Panchkarma : निरोगी रहने के लिए पंचकर्म के फायदे और विधि

पंचकर्म

पंचकर्म शरीर की असुद्धियो को बहार निकालने की एक आयुर्वेदिक प्रक्रिया है। पंच, जिसका अर्थ है “पांच,” और कर्म, जिसका अर्थ है “क्रिया”। पंचकर्म के सिद्धांतों का उल्लेख वैदिक काल के प्राचीन ग्रंथों में मिलता है। पंचकर्म बीमारी से छुटकारा दिलाने के साथ-साथ उसको दोबारा होने से रोकती है और स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है। … Read more

खाद्य प्रदार्थ में मौजूद तत्वों के फायदे व नुकसान

खाद्य तत्व

खाद्य तत्व एक उपयोगी तत्व है जिसका सही प्रयोग कर के हम रोगों से दूर रह सकते हैं और रोग हो जाने पर इसके थोड़ा परिवर्तन करके रोग को नष्ट भी कर सकते हैं खाद्य तत्व में पंचतत्व विधमान होते हैं। मिटटी के एक साधारण से डेले में ऑक्सीजन, कार्बोन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, … Read more

Vitamin in Food : खाद्य तत्वों में विटामिन्स का महत्व एंव प्रकार

विटामिन

खाद्य तत्वों में सातवां तत्व विटामिन है। जो शरीर के लिए अति आवश्यक है। वैज्ञानिकों को अभी तक लगभग १५ प्रकार के विटामिन ही ज्ञात हो चुके हैं विटामिन शरीरी के लिए अत्यंत आवश्यक तत्व है विटामिन वसा में घुलनशील है इसका संचयन शरीर में किया जा सकता है विटामिन शरीर के विकास के लिए … Read more

दमा, श्वास, कफ के लिए मिट्टी की पट्टी बनाने की विधि और फायदे

मिट्टी के पट्टी

शरीर के जिस अंग में रोग हो उसपर मिट्टी की पट्टी का प्रयोग करना अत्यंत गुणकारी है। पट्टी को लपेटने के बाद उस स्थान पर ऊपर से गरम कपड़े या मोटे सूती कपड़े की सूखी पट्टी भली प्रकार लपेटें और मिट्टी सूखने तक विश्राम करें। मिट्टी के सूख जाने पर सूखी पट्टी हटाकर गीली पट्टी … Read more

मिट्टी द्वारा प्राकृतिक चिकित्सा आधारभूत तत्त्व – Natural Theraphy

मिट्टी चिकित्सा

परम पिता परमात्मा ने पाँच तत्त्वों के संगठन से प्रकृति की रचना की है और प्रकृति ने इन्हीं पाँच तत्त्वों द्वारा अपनी सर्वश्रेष्ठ कृति मानव शरीर को गढ़ा है। इन पाँच तत्त्वों को पंच-महाभूत कहते हैं। ये पंच-महाभूत हैं—पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश। इन पंच-महाभूतों और इनके द्वारा सभी जीवधारियों की शरीर रचना के … Read more