Meditation Methods: ध्यान क्या है?, ध्यान कब करना चाहिए?

meditation

छोटा हो या बड़ा ध्यान कोई भी कर सकता है. कोई भी धर्म हो, कोई भी देश हो, हर कोई ध्यान कर सकता है. आज मनोविज्ञान ध्यान की प्राचीन पद्धतियों को अपना रहा है. ध्यान करने की कोई योग्यता नहीं है. ध्यान एक जरुरत है. हम तन को अच्छा करने के लिए बहुत कुछ करते … Read more

शंख-प्रक्षालन आसान के फायदे और सावधानियाँ – shankh-prakshaalan

शंख प्रक्षालन

यदि हम अपने शरीर पर दृष्टि डालें और यह सोचें कि पूरे शरीर को कौन सा अंग विशेष रूप से प्रभावित करता है ? ऐसा कौन सा अंग है जो कि हमारे इस पूरे शरीर को पोषकता प्रदान करता है? ऐसा कौन सा अंग है जिसके लिए व्यक्ति सुबह से शाम तक कमाता है तो … Read more

दैनिक जीवन में प्रार्थना की उपयोगिता व महत्त्व: Prarthna

Prarthna

मानव जीवन में प्रार्थना का बड़ा महत्त्व है। प्रार्थना की विभिन्न परिस्थितियाँ। जहाँ एक ओर संबल प्रदान करती हैं, वहीं दूसरी ओर भय मुक्त भी करती हैं। प्रार्थना जहाँ हमें जीवन जीने हेतु आधार प्रदान करती है वहीं हमारे पूरे व्यक्तित्व को भी प्रभावित करती है। प्रार्थना से आध्यात्मिक पक्ष को बल एवं शक्ति प्राप्त … Read more

ईश्वर के प्रति आत्म निवेदन प्रार्थना का अर्थ और उसके प्रकार : Prayer

प्रार्थना

पूर्ण श्रद्धा भक्ति और विश्वास के साथ ईश्वर चरणों में स्वयं को समर्पित करना ही प्रार्थना है। सच्ची प्रार्थना वही है जिसमें हम अपनी विराट् सत्ता के प्रवाह में अपने क्षुद्र अहम् का शमन करते हैं। हम अपने आंतरिक प्रकाश को विश्व में बिखेरते हुए प्रकाश में मिला देते हैं तथा अनंत अमर सत्ता की … Read more

आसन क्यों करने चाहिए?,आसन करने के बाद इस तरह करे प्राणायाम की तैयारी

प्राणायाम

शरीर की दृष्टि से आसन में शरीर-स्थिरता प्राप्त करना स्थिरता के संबंभा में बाह्योपचार मात्र हुआ। शरीर को स्नायुओं की शक्ति पर स्थिर किया जा सकता है। साथ ही स्नायुओं को ढीला छोड़कर शरीर को बेहोश करने के समान उसे भुलाकर भी स्थिर बनाया जा सकता है। किसी यात्रा के दौरान हम सब का यह … Read more